नव-विवाहिता कैसे करें व्रत पूजा पति को मिले लम्बी आयु


                                        


विवाह के बाद पहला करवाचौथ हो या जिनकी इस वर्ष शादी हुई है, उन्हें पति की लम्बी आयु और साथ के लिए विशेष पूजा विधान बताया गया है। हर वर्ष पति की लम्बी आयु के लिए पत्नियाँ विशेष पूजा करती हैं।


पहले करवाचौथ में शिव पार्वती गणेश की आराधना करें। चाहे तो शिव पार्वती गणेश की मिट्टी की मूर्ति लायें या बनायें उन्हें  पुष्प माला नैवेध से सजायें शिव पार्वती एवं गणेश की आराधना करें। हो सके तो महामृत्युन्ज्य मंत्र की कम से कम एक माला अवश्य करें। चाहे तो 11 एवं 21 माला भी कर सकते हैं। महामृत्युन्ज्य मंत्र सच्चे मन से करने से पति की लम्बी आयु की कामना पूर्ण होती है। इसके अतिरिक्त पति निरोग और विभिन्न प्रकार की बाधाओं से मुक्ति भी पाता है।


गणेश जी की पूजा करने से शुभ स्थितियाँ बनी रहती है। बाधाओं का नाश होता है। शिव पार्वती गणेश के अलावा लक्ष्मी पूजा एवं विष्णु पूजा भी नये दम्पति कर सकते हैं। लक्ष्मी जी की पूजा से धन-धान्य की स्थितियाँ बनती हैं। पति को पैसे की कमी नहीं रहती है। दामपत्य जीवन में पैसे के अभाव की कमी दूर हो जाती है।


विष्णु जी की पूजा से पति को अनेक शुभ अवसर मिलते हैं। इन अवसरों का लाभ उठाकर जातक प्रगति करने में सफल होता है। नवविवाहित स्त्रियों को पहले करवाचौथ में शिव पार्वती गणेश के साथ विष्णु एवं लक्ष्मी की भी विशेष पूजा करनी चाहिए। इससे दामपत्य जीवन में खुशी एवं निरन्तर उन्नति की स्थिति बनी रहती है। करवाचौथ में पति को भी खुश करना चाहिए। कुछ ऐसी अनमोल वस्तु पत्नी को देना चाहिए। इससे पत्नी में शुभ मनोकामना की भावना उमड़े। पति के लिए शुभ आशीर्वाद के रूप में शुभ भावना बनी रहे। पति, पत्नी को उपहार दें, साथ ही सोने व चाँदी की वस्तु अवश्य दें। सोने चाँदी के महंगे गहने न दे सकें तो प्रतीक के रूप में सोने या चाँदी की कील भी देना शुभ माना गया है।


लक्ष्मी और विष्णु के लिए सोना विशेष शुभ माना गया है, इससे शिव-पार्वती लक्ष्मी गणेश सबकी कृपा बनी रहती है। यदि पति, चाँदी के पात्र में अपने हाथों से पत्नी को कुछ खिलाकर जल ग्रहण कराये तो शिवजी, पार्वतीजी, गणेशजी की विशेष कृपा पति पर बरसती है।


चन्द्रमा शिव जी के मस्तक पर विराजमान हैं। चन्द्रमा चाँदी के धातु का प्रतिनिधित्व करता है इसलिए शिवजी पार्वतीजी एवं गणेशजी की कृपा पति पत्नी दोनों पर बनी रहेगी।


(सम्पर्क : 9335763882, 7007734801)


Popular posts
डाबर का शुद्ध गाय घी के साथ घी श्रेणी में प्रवेश
इण्डो-नेपाल बार्डर मार्ग निर्माण परियोजना के अंतर्गत भूमि अध्याप्ती को 15 करोड़ रू. आवंटित
राष्ट्रीय स्वाभिमान, शक्ति, स्वाधीनता और संपन्नता के प्रतीक थे महाराणा प्रताप और राजा छत्रसाल : स्वामी मुरारीदास
Image
पूर्वांचल विकास निधि से मिर्जापुर व बलिया के 4 मार्गों के निर्माण को धनराशि आवंटित
उप्र सरकार भर्तियों के नाम पर नौजवानों से कर रही है लूट : वंशराज दुबे
Image