गुजरात मेें गिरफ्तार सम्पादक को रिहा करो : एनयूजेआई-डीजेए

गुजरात मेें गिरफ्तार सम्पादक को रिहा करो : एनयूजेआई-डीजेए


- गृह मंत्री अमित शाह को पत्र भेजा 


लखनऊ। नेशनल यूनियन ऑफ जर्नलिस्ट्स-इंडिया (एनयूजेआई) और दिल्ली जर्नलिस्ट्स एसोसिएशन (डीजेए) ने गुजराती समाचार पत्र फेस ऑफ नेशन के संपादक और मालिक धवल पटेल की आईपीसी सेक्शन 124 ए (राजद्रोह) और डिजास्टर मैनेजमेंट एक्ट सेक्शन 54 (गलत चेतावनी के लिए सजा) के तहत गिरफ्तारी की निंदा करते हुए तुरंत रिहाई की मांग की है।


एनयूजेआई के अध्यक्ष रास बिहारी और महासचिव प्रसन्ना मोहंती, दिल्ली जर्नलिस्ट्स एसोसिएशन के अध्यक्ष राकेश थपलियाल और महासचिव केपी मलिक ने कहा है कि गुजरात के मुख्यमंत्री के बारे में समाचार छापने पर पत्रकार की गिरफ्तारी का विरोध करते हैं। गुजराती अखबार फेस ऑफ नेशन और पोर्टल के संपादक तथा मालिक धवल पटेल को गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपानी के बारे में एक खबर छापने पर आईपीसी सेक्शन 124 ए (राजद्रोह) और डिजास्टर मैनेजमेंट एक्ट सेक्शन 54 (गलत चेतावनी के लिए सजा) के तहत गिरफ्तार किया गया है।


धवल पटेल ने 7 मई को अपने अखबार में प्रकाशित किया था कि कोरोना महामारी पर सही तरीके काबू न कर पाने पर भाजपा आलाकमान मुख्यमंत्री विजय रूपानी को हटाकर केंद्रीय मंत्री मनसुख भाई मंडाविया को मुख्यमंत्री बना सकती है।


केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह को संगठन की तरफ से भेजे गए पत्र में कहा गया है कि हो सकता है कि यह खबर पूरी तरह से तथ्यों पर आधारित न हो, पर कोई यह तो विचार रख सकता है कि मुख्यमंत्री महामारी का प्रकोप रोकने में असफल रहे और मंडाविया बेहतर काम कर सकते थे। राजद्रोह और आपदा प्रबंधन कानून के तहत धवल पटेल की गिरफ्तारी उचित नहीं है।


पत्रकार की इस तरह से गिरफ्तारी को लेकर मीडिया बिरादरी में नाराजगी है। गुजरात के पत्रकार भी गिरफ्तारी का विरोध कर रहे हैं। एनयूजेआई और डीजेए ने धवल पटेल को तुरंत रिहा करन की मांग की है। साथ उन पर लगे सभी आरोप रफादफा करने की भी मांग की है। इस मामले में एनयूजेआई की राज्य इकाई के लखनऊ जिलाध्यक्ष भारत सिंह ने गुजरात सरकार से तत्काल रिहा करने की मांग की है।


Popular posts
कोरोना : "विनय न मानत जलधि जड़ गए तीनि दिन बीति। बोले राम सकोप तब भय बिनु होइ न प्रीति॥"
Image
डाबर का शुद्ध गाय घी के साथ घी श्रेणी में प्रवेश
इण्डो-नेपाल बार्डर मार्ग निर्माण परियोजना के अंतर्गत भूमि अध्याप्ती को 15 करोड़ रू. आवंटित
राष्ट्रीय स्वाभिमान, शक्ति, स्वाधीनता और संपन्नता के प्रतीक थे महाराणा प्रताप और राजा छत्रसाल : स्वामी मुरारीदास
Image
उप्र सरकार भर्तियों के नाम पर नौजवानों से कर रही है लूट : वंशराज दुबे
Image