माल गाड़ियों के संरक्षित संचालन में इंजीनियरिंग विभाग ने किया सराहनीय कार्य

- माल गाड़ियों के संरक्षित संचालन में इंजीनियरिंग विभाग ने किया सराहनीय कार्य


लखनऊ। प्रयागराज मंडल भारतीय रेलवे का अति व्यस्त एवं विशाल मंडल है जिसके अंतर्गत गाड़ियों को उच्च गति पर चलाने हेतु चिपियाना बुजुर्ग से पंडित दीनदयाल उपाध्याय जं., चुनार से चोपन तथा नैनी सेमानिकपुर जं. तक ट्रैक अनुरक्षण कार्य निरंतर किया जा रहा है। इस महामारी की स्थिति में जहाँ चारो तरफ भय व आशंका व्याप्त है। ऐसे में इंजीनियरिंग विभाग केकर्मचारियों द्वारा पूरी तन्मयता के साथ अपनी जिमीदारियों का निर्वहन करते हुए अभूतपूर्व साहस व अपने कर्तब्यों के प्रति सम्पूर्ण कटिबद्ध होने का परिचय देते हुए ट्रैक पर आवश्यक मेंटीनेंस का कार्य निरंतरकिया जा रहा है।


 मालगाड़ियों का संरक्षित संचालन सुनिश्चत करने हेतु वरिष्ठ मंडल इंजीनियर/सम. संतोष कुमार गुप्ता के निर्देशन में इंजीनियरिंग विभाग के कर्मचारियों द्वारा लाक डाउन के दौरान, सोशल दूरी बनाकर रेल पथअनुरक्षण का सराहनीय कार्य किया जा रहा है, जिसमें पटरियों की जांच अल्ट्रासोनिक मशीन द्वारा प्रतिदिनकिया जा रहा है तथा खराब हुई पटरियों का बदलाव तथा उनको जोड़ने के लिए वेल्डिंग कार्य भी प्रतिदिनकिया जा रहा है। इस गर्म मौसम में रेल पथ की सुरक्षा के लिए पेट्रोल मैन लगाये जाते हैं जो कि सुबह 11:00 बजे से 03.00 बजे तक  रेल पथ की पेट्रोलिंग करते हैं। कार्यस्थल पर कर्मचारियों के लिए मास्क तथा हाथ धोने के लिए साबुन की सुविधा प्रदान कि गई है तथा कर्मचारियों को कार्यस्थल पर पानी पीने के लिए बोतल भी उपलब्ध कराई गई है।


  रेल पथ अनुरक्षण के लिए मशीनों का प्रयोगकर, कार्य कराया जा रहा है जिसमें यूटीवी मशीन द्वारा ट्रैक के किनारे पड़ी रेलों को हटाकर, खुली जगह पर इकट्ठा किया जा रहा है तथा रेल पथ की पैकिंग के लिए टीटीएम मशीन द्वारा कार्य कराया जा रहा है। लाक डाउन के समय माल गाड़ियों द्वारा विभिन्न प्रकार के सामान जैसे खाद्यान्न, कोयला, पेट्रोलियम आदि का समय पर एक स्थान से दूसरे स्थान पर सुरक्षित पहुँचने में रेल पथ के कर्मचारियों द्वारा सराहनीय कार्य किया जारहा है। यह जानकारी उत्तर मध्य रेलवे में तैनात जनसम्पर्क अधिकारी सुनील कुमार गुप्त ने दी।


Popular posts
डाबर का शुद्ध गाय घी के साथ घी श्रेणी में प्रवेश
इण्डो-नेपाल बार्डर मार्ग निर्माण परियोजना के अंतर्गत भूमि अध्याप्ती को 15 करोड़ रू. आवंटित
राष्ट्रीय स्वाभिमान, शक्ति, स्वाधीनता और संपन्नता के प्रतीक थे महाराणा प्रताप और राजा छत्रसाल : स्वामी मुरारीदास
Image
पूर्वांचल विकास निधि से मिर्जापुर व बलिया के 4 मार्गों के निर्माण को धनराशि आवंटित
उप्र सरकार भर्तियों के नाम पर नौजवानों से कर रही है लूट : वंशराज दुबे
Image