गलत खबर फैलाने वाले पर अयोध्या में एक एफआईआर दर्ज






- कालाबाजारी व जमाखोरी करने पर 133 लोगों के 

विरुद्ध एफआईआर, 53 गिरफ्तार

- रबी फसल कटाई में हार्वेस्टर का उपयोग करें किसान

- फसल कटाई के समय मास्क लगायें : देवेश चतुर्वेदी

 

लखनऊ। अपर मुख्य सचिव, गृह एवं सूचना अवनीश कुमार अवस्थी ने कहा कि लाॅकडाउन को प्रभावी बनाने के लिये जनपद में ड्रोन कैमरे का प्रयोग किया जाए। जिलाधिकारियों एवं पुलिस अधीक्षकों को निर्देशित किया गया है कि वे क्वाॅरेण्टीन केन्द्रों की स्वयं माॅनीटरिंग करें तथा वहां खाने, रहने एवं चिकित्सीय सेवा का भी निरन्तर अनुश्रवण करें। क्वाॅरेण्टीन स्थल से भागने वालों एवं रक्त जांच में सहयोग न करने वालों के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई के निर्देश दिए गए हैं। लाभार्थियों के हित को देखते हुये सार्वजनिक अवकाश के दिनों में बैंक खुले रहेंगे। लाॅकडाउन को सफल बनाने के लिये धर्मगुरू एवं गणमान्य नागरिकों का भी सहयोग लिया जाए। उन्होंने कहा कि ब्लड बैंक में कमी न हो, के दृष्टिगत स्वैच्छिक रक्तदान करने वालों को सुविधा देने पर विचार किया जाएगा।

श्री अवस्थी आज लोक भवन स्थित मीडिया सेण्टर में मीडिया प्रतिनिधियों को सम्बोधित करते हुए बताया कि मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ जी ने आज कोविड-19 महामारी के दृष्टिगत वृद्धावस्था पेंशन, निराश्रित पेंशन, दिव्यंाग पेंशन तथा कुष्ठावस्था पेंशन के 86 लाख 71 हजार 781 लाभार्थियों के खाते में 871.48 करोड़ रुपये की पेंशन का आॅनलाइन अंतरण किया। इसके अन्तर्गत प्रत्येक लाभार्थी के खाते मे वित्तीय वर्ष के प्रथम दो माह की एकमुश्त पेंशन अंतरित की गयी है। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री जी ने इस अवसर पर मुरादाबाद, सहारनपुर, वाराणसी, गोरखपुर, लखनऊ, सीतापुर, चित्रकूट और प्रयागराज के विभिन्न पेंशन लाभार्थियों से वीडियो काॅन्फ्रेंसिंग कर उनकी कुशलक्षेम पूछी तथा पेंशन के सम्बन्ध में जानकारी प्राप्त की। 
श्री अवस्थी ने बताया कि मुख्यमंत्री जी ने मा0 प्रधानमंत्री जी द्वारा देशवासियों से 05 अप्रैल 2020 को रात्रि 09ः00 बजे 09 मिनट के लिए घरों की लाइट बंद कर दीपक, टार्च, मोमबत्ती या मोबाइल फ्लैश लाइट जलाये जाने की अपील को सफल बनाने का आह्वान किया है। कोरोना वायरस के संक्रमण के दृष्टिगत फायर सर्विस विभाग की मदद से आवश्यकतानुसार पूरे प्रदेश में जिला प्रशासन के पर्यवेक्षण में एरिया सैनेटाइजेशन का कार्य किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि जिला प्रशासन को निर्देश दिए गए हैं कि इस महामारी से निपटने के लिए विभिन्न स्वयंसेवी संगठनों, एन0सी0सी0, एन0एस0एस0, युवा मंगल दल, नेहरू युवा केन्द्र, राष्ट्रीय सेवायोजना एवं शिक्षण संस्थाओं का भी सहयोग लिया जाए। इसके साथ ही मास्क एवं सैनेटाइजर बनाये जाने हेतु स्वयं सहायता समूहों से भी सहयोग लिया जाए। 
श्री अवस्थी ने बताया कि कोविड-19 के सम्बन्ध में पूरे प्रदेश में अब तक 1517 अस्थायी स्क्रीनिंग कैम्प एवं आश्रय स्थल बनाये गए हैं। इन आश्रय स्थलों पर बेड, पेयजल, भोजन, सैनेटाइजर, साबुन, शौचालय एवं चिकित्सीय सुविधा आदि की व्यवस्था की गयी है, जिसमें सोशल डिस्टेंसिंग का अनुपालन सुनिश्चित किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि अस्थायी कैम्प व आश्रय स्थल में रखे गए व्यक्तियों को काउंसेलिंग के प्रति प्रेरित करने के लिए यूनिसेफ तथा एन0एच0एम0 द्वारा 72 काउंसेलर व मनोचिकित्सक उपलब्ध कराये गए हैं, जिससे कि 14 दिन के पूर्व अस्थायी कैम्प या आश्रय स्थल से पलायन न करें।


श्री अवस्थी ने बताया कि उच्चतम न्यायालय के निर्देशानुसार अभी तक प्रदेश के विभिन्न कारागारों से 9137 बंदियों को पे-रोल एवं जमानत पर रिहा किया गया है। इसके साथ ही 248 जुवनाइल बंदियों को भी रिहा किये जाने का निर्णय लिया गया है। उन्होंने बताया कि प्रदेश सरकार फेक न्यूज पर कड़ाई से नजर रख रही है और फेक न्यूज फैलाने वाले लोगों पर कड़ी कार्यवाही की जा रही है। इसी के तहत आज अयोध्या में फेक न्यूज फैलाने की 01 एफ0आई0आर0 दर्ज की गयी है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री जी ने निर्देश दिए हैं कि कालाबाजारी एवं जमाखोरी करने वाले लोगों के विरुद्ध आवश्यक वस्तु अधिनियम के तहत और अधिक सख्ती की जाए। उन्होंने बताया कि कालाबाजारी एवं जमाखोरी करने वाले 133 लोगों के खिलाफ 94 एफ0आई0आर0 दर्ज करते हुए 53 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। 
श्री अवस्थी ने बताया कि दिल्ली के तब्लीगी मरकज में सम्मिलित होने वाले 1203 लोगों को चिन्हित करते हुए 897 लोगों को क्वाॅरेण्टीन में रखा गया है। उन्होंने बताया कि व्यापक अभियान चलाकर लोगों के कोरोना संक्रमण की जांच की जा रही है। उन्होंने जमात में शामिल लोगों से अपील की है कि वे अपने, अपने परिवार और समाज के हित में आगे आकर अपनी जांच कराएं। क्वाॅरेण्टीन में रखे गये लोगों का टेस्ट कराया जा रहा है। उन्होंने बताया कि जो लोग क्वाॅरेण्टीन एवं जांच में सहयोग नहीं करेंगे, उनके खिलाफ कार्यवाही की जाएगी। उन्होंने बताया कि 296 विदेशी लोगों को चिन्हित कर 35 एफ0आई0आर0 दर्ज की गयी है तथा 228 पासपोर्ट जब्त किये गए हैं।


श्री अवस्थी ने बताया कि पुलिस विभाग द्वारा की गयी कार्यवाही में 7738 लोगों के विरुद्ध धारा 188 के तहत एफ0आई0आर0 दर्ज की गई। अब तक कुल 17783 लोग गिरफ्तार किये गए। प्रदेश में कुल 5273 बैरियर व नाके स्थापित किये गए हैं तथा अब तक 944953 वाहनांे की सघन चेकिंग में 14738 वाहन सीज किये गए। चेकिंग अभियान के दौरान 39180243 रुपए का शमन शुल्क वसूल किया गया। आकस्मिक सेवाओं हेतु कुल 59225 वाहनों के परमिट जारी किये गए हैं। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री हेल्पलाइन 1076 के माध्यम से 53495 ग्राम प्रधानों तथा 8426 पार्षदों से संपर्क किया गया तथा 41291 शिकायतों को निस्तारित भी किया गया। उन्होंने बताया कि इसी क्रम में अब तक 947 ए0एन0एम0 एवं 11251 आशाओं से सम्पर्क कर उनको अवगत कराया गया कि वे अपने क्षेत्र में भ्रमण करें और बाहर से आये व्यक्तियों या संदिग्ध कोरोना पीड़ितों की जानकारी एकत्र करें तथा अपने कार्यक्षेत्र में कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव व रोकथाम हेतु जागरूक भी करें।


श्री अवस्थी ने बताया कि 01 अप्रैल से निःशुल्क खाद्यान्न वितरण प्रारम्भ कर दिया गया है, निःशुल्क श्रेणी के अन्तर्गत 11893367 राशन कार्ड (अन्त्योदय की संख्या सहित) के सापेक्ष 2694855 कार्डों पर खाद्यान्न का वितरण किया गया है। इसी क्रम में प्रदेश में 2578 धार्मिक एवं स्वैच्छिक संस्थाओं द्वारा कुल 680750 लोगों को फूड पैकेट्स तथा 1539 जिला प्रशासन एवं अन्य सरकारी संस्थाओं द्वारा खाद्य सामग्री के रूप में 183845 फूड पैकेट्स उपलब्ध कराये गये। उन्होंने बताया कि प्रदेश में डोर-स्टेप-डिलीवरी व्यवस्था के अन्तर्गत 17709 स्टोर क्रियाशील हैं, जिनके माध्यम से 44302 डिलीवरी मैन आवश्यक सामग्री निरंतर पहुंचा रहे हैं।


श्री अवस्थी ने बताया कि उत्तर प्रदेश भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण बोर्ड की श्रमिक भरण-पोषण योजना के तहत अब तक 10.45 लाख भवन निर्माण श्रमिकों के खाते में एक-एक हजार रुपए की धनराशि आर0टी0जी0एस0 के माध्यम से भेजी गई है। इसके अतिरिक्त नगरीय क्षेत्र के 64714 श्रमिकों को भी एक-एक हजार रुपए की धनराशि का भुगतान किया जा चुका है। उन्होंने यह भी बताया कि प्रदेश की 20532 फैक्ट्री से सम्पर्क किया गया, जिनमें 17504 द्वारा अपने श्रमिकों को वेतन का वितरण कर दिया गया है। प्रदेश की पर्सनल प्रोटैक्टिव इक्विप्मेण्ट व मास्क निर्माण की 33 इकाइयों में से 31 इकाई क्रियाशील हैं, शेष 02 इकाइयों को शीघ्र ही क्रियाशील कर दिया जायेगा, जबकि सैनेटाइजर की 66 में से 59 इकाइयां कार्य कर रही हैं। प्रदेश में मेडिकल इक्विप्मेण्ट एवं दवा निर्माण आदि से सम्बन्धित 452 इकाइयों में से 410 इकाइयां कार्यरत हैं। उन्होंने बताया कि प्रदेश में आटा की पर्याप्त सप्लाई बनाये रखने के लिए 620 मिलों का संचालन किया जा रहा है, इसके साथ ही 339 तेल मिल एवं 150 दाल मिल का भी संचालन हो रहा है।

 
श्री अवस्थी ने बताया कि प्रदेशवासियों को आवश्यक वस्तुओं की किसी भी प्रकार की कमी न हो, फल एवं सब्जी उपलब्ध कराये जाने के लिए कुल 37893 वाहनों की व्यवस्था की गयी है। इसी क्रम में कुल 40.25 लाख लीटर दूध उपार्जन के सापेक्ष 26.88 लाख लीटर दूध का वितरण 17619 डिलीवरी वैन के माध्यम से किया गया है। उन्होंने बताया कि पूरे प्रदेश में दूध की अनवरत आपूर्ति बनी हुई है तथा अतिरिक्त दूध से घी तैयार किया जाएगा।


प्रेसवार्ता के दौरान प्रमुख सचिव स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने बताया कि अभी तक प्रदेश में कोरोना के 172 मामले पाॅजिटिव पाये गये हैं, जिसमें से 17 मरीज पूर्णतया स्वस्थ होकर डिस्चार्ज किये जा चुके हैं। वर्तमान में 08 टेस्टिंग लैब क्रियाशील हैं तथा आई0सी0एम0आर0 की स्वीकृति के बाद झांसी मेडिकल काॅलेज में भी टेस्टिंग की सुविधा उपलब्ध हो जाएगी। उन्होंने बताया कि अन्य जनपदों में जहां से अभी तक केस नहीं आये हैं वहां पर भी लगातार सर्विलांस के निर्देश दिये गये हैं। उन्होंने कहा कि निजी क्षेत्र के कुछ अस्पतालों को भी कोविड अस्पताल के रूप में परिवर्तित किया जाएगा।


प्रमुख सचिव कृषि, देवेश चतुर्वेदी ने बताया कि प्रदेश में रबी फसल कटाई में अधिक से अधिक मैकेनाइज़्ड हार्वेस्टर का उपयोग किया जाए। साथ ही, फसल कटाई के दौरान सोशल डिस्टेंसिंग का भी ध्यान रखा जाए। उन्होंने बताया कि फसल कटाई के समय श्रमिक चेहरे पर मास्क जरूर लगाएं। इसके अतिरिक्त कटाई के उपरान्त फसल के गट्ठर दूर-दूर रखें, ताकि श्रमिकों की भीड़ न होने पाए।








Popular posts
कोरोना : "विनय न मानत जलधि जड़ गए तीनि दिन बीति। बोले राम सकोप तब भय बिनु होइ न प्रीति॥"
Image
डाबर का शुद्ध गाय घी के साथ घी श्रेणी में प्रवेश
इण्डो-नेपाल बार्डर मार्ग निर्माण परियोजना के अंतर्गत भूमि अध्याप्ती को 15 करोड़ रू. आवंटित
राष्ट्रीय स्वाभिमान, शक्ति, स्वाधीनता और संपन्नता के प्रतीक थे महाराणा प्रताप और राजा छत्रसाल : स्वामी मुरारीदास
Image
उप्र सरकार भर्तियों के नाम पर नौजवानों से कर रही है लूट : वंशराज दुबे
Image