योगी सरकार ने यमुना इंटरनेशनल एयरपोर्ट प्राइवेट लिमिटेड का किया गठन

• उत्तर प्रदेश सरकार चीन को पछाड़कर एशिया का दूसरा सबसे बड़ा एयरपोर्ट (जेवर) बना रही है


लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व वाली उत्तर प्रदेश सरकार ने एशिया के दूसरे सबसे बड़े इंटरनेशनल जेवर एयरपोर्ट को विकसित करने के लिए यमुना इंटरनेशनल एयरपोर्ट प्राइवेट लिमिटेड का गठन किया है। जिससे इस इंटरनेशनल एयरपोर्ट को विकसित करने का कार्य तेजी के साथ शुरू हुआ है। मुख्यमंत्री कार्यालय ने ट्वीट करते हुए इसकी जानकारी दी है।


उत्तर प्रदेश की योगी सरकार चीन को पछाड़कर एशिया का दूसरा सबसे बड़ा एयरपोर्ट (जेवर) बना रही है। इसके पूरा होने पर यूपी की अर्थव्यवस्था को नई रफ्तार मिलेगी। रोजगार और व्यापार तो बढ़ेगा ही, साथ ही अन्य निवेशक भी उत्तर प्रदेश की ओर रूख करेंगे। यह योगी सरकार पर निवेशकों का बड़ा विश्वास है।


जेवर ग्रीनफील्ड इंटरनेशनल एयरपोर्ट उत्तर प्रदेश की अर्थव्यवस्था को मजबूत करने के साथ ही औद्योगिक विकास को नए मुकाम पर पहुंचाएगा। 30 हजार करोड़ रुपए के निवेश से बन रही इस परियोजना से सरकार को एक लाख 10 हजार करोड़ रुपए से अधिक की आय होने का अनुमान है। एक लाख से अधिक लोगों को प्रत्यक्ष एवं परोक्ष रूप से रोजगार मिलेगा। इस एयरपोर्ट से नोएडा, ग्रेटर नोएडा, गाजियाबाद और यमुना एक्सप्रेसवे के करीब एक लाख करोड़ रुपए का निवेश आएगा। आपको बता दें कि जेवर एयरपोर्ट के लिए 29 नवंबर 2019 को फाइनांशियल बिड्स खोली गई थी। जिसे ज़्यूरिख़ एयरपोर्ट इंटरनेशनल एजी ने 400.97 रुपए प्रति यात्री राजस्व भुगतान की दर पर टेंडर हासिल किया। 


उत्तर प्रदेश में बनने वाला यह एयरपोर्ट दुनिया का 5वां सबसे बड़ा एयरपोर्ट होगा। ग्रेटर नोएडा के जेवर में करीब 5000 हेक्टेयर में प्रस्तावित इस एयरपोर्ट पर तेजी से काम चल रहा है। प्रस्ताव के अनुसार 2022-23 में जेवर इंटरनेशनल एयरपोर्ट से फ्लाइट्स का संचालन भी शुरू हो जाएगा। 


अभी चीन का शंघाई प्रांत का इंटरनेशनल एयरपोर्ट एशिया का दूसरा सबसे बड़ा एयरपोर्ट है। शंघाई इंटरनेशनल एयरपोर्ट लगभग 3988 हेक्टेयर में फैला है। जबकि दुनिया का सबसे बड़ा एयरपोर्ट सऊदी अरब में है। दामम के किंग फहद इंटरनेशनल एयरपोर्ट 77,600 हेक्टेयर जमीन पर बना है। इसके बाद अमेरिका के डेंवर इंटरनेशनल एयरपोर्ट का नंबर आता है, जो 13,571 हेक्टेयर जमीन पर बना है। तीसरे नंबर पर अमेरिका का ही डलास इंटरनेशनल एयरपोर्ट है जो 6,963 हेक्टेयर जमीन पर फैला हुआ है। चौथे और पांचवें नंबर पर अमेरिका के ही ओरलैंडो इंटरनेशनल एयरपोर्ट और वाशिंगटन ड्यूलेस इंटरनेशनल एयरपोर्ट हैं जो क्रमशः 5,383 और 4,856 हेक्टेयर जमीन पर बने हुए हैं। 


नोएडा इंटरनेशनल जेवर एयरपोर्ट को बनाने के लिए पिछली सरकारों के पास दृढ़ इच्छाशक्ति की कमी रही, जिससे देश का सबसे बड़ा प्रोजेक्ट पिछले 20 वर्षों से अधर में था। वर्ष 2017 में यूपी में महज 4 एयरपोर्ट थे तथा कुल 25 गंतव्य स्थान हवाई सेवाओं से जुड़े थे। योगी सरकार ने एयर कनेक्टिविटी को बढ़ाते हुए वर्तमान में 6 एयरपोर्ट को क्रियाशील किया गया। इन एयरपोर्ट से कुल 55 गंतव्य स्थानों के लिए हवाई सेवाएं उपलब्ध हैं। जबकि प्रदेश में 11 एयपोर्ट के विकास का कार्य प्रशस्त है। यही नहीं अयोध्या और श्रावस्ती में देश-दुनिया के श्रद्धालुओं के लिए योगी सरकार अलग से एयरपोर्ट बनाने जा रही है।


Popular posts
कोरोना : "विनय न मानत जलधि जड़ गए तीनि दिन बीति। बोले राम सकोप तब भय बिनु होइ न प्रीति॥"
Image
डाबर का शुद्ध गाय घी के साथ घी श्रेणी में प्रवेश
इण्डो-नेपाल बार्डर मार्ग निर्माण परियोजना के अंतर्गत भूमि अध्याप्ती को 15 करोड़ रू. आवंटित
राष्ट्रीय स्वाभिमान, शक्ति, स्वाधीनता और संपन्नता के प्रतीक थे महाराणा प्रताप और राजा छत्रसाल : स्वामी मुरारीदास
Image
उप्र सरकार भर्तियों के नाम पर नौजवानों से कर रही है लूट : वंशराज दुबे
Image