विश्वकल्याण संकल्प के साथ हुई पौष शक्ल पूर्णिमा नमोस्तुते माँ गोमती महाआरती

लखनऊ। पुनीत माघ माह पूर्व एवं पौष शुक्ल पूर्णिमा के अति शुभ अवसर पर मनकामेश्वर मठ-मंदिर एवं नमोस्तुते माँ गोमती के तत्वाधान में आयोजित आदि माँ गोमती महाआरती से शुक्रवार को मनकामेश्वर उपवन घाट की अलौकिता अपने चरम को स्पर्श कर रही थी। विश्व हिंदी दिवस पर मनकामेश्वर मठ-मंदिर की प्रमुख महंत देव्या गिरि ने आदि माँ गोमती महाआरती की। पूर्णिमा पर आयोजित इस गोमती आरती के मौके पर घाट व 11 वेदियों को पुष्पों एवमं प्राकर्तिक रंगों की रंगोली से सुशोभित किया गया था। माघ माह पूर्वसंध्या होने के कारण आदि माँ गोमती महाआरती को देखने के लिए श्रद्धालुओं का तांता लगा रहा। कार्यक्रम के शुरआत 4 बजे भारत माता के चित्र पर माल्यार्पण कर के की गई।


गौधूलि बेला में 11 वेदियों पर की गई पौष शुक्ल पूर्णिमा महाआरती। 


नमोस्तुते माँ गोमती एवं मनकामेश्वर मठ मंदिर की श्रीमहंत देव्यगिरि महाराज ने मुख्य मंच से माँ गोमती की महा आरती की, पंडित शिवानंद व पंडित शिव राम अवस्थी के आचार्यत्व में सभी वेदियों पर एक ही वेश भूषा में सभी एवं पंडितों ने मंत्रों उच्चार के साथ माँ गोमती की आरती और पूजा अर्चना की इस अवसर पर मंदिर की ओर से सेवादार, दीपू ठाकुर, गजेंद्र सिंह, बृजेश, अंकित, उपमा, ममता, रेखा पाण्डेय एवं मेधा श्रीवास्तव आदि उपस्थित रहे।


सांस्कृतिक संध्या में बिखरें बहु आयामी संस्कृति के रंग।


विश्व हिंदी दिवस के अवसर पर मुख्य मंच पर आयोजित सांस्कृतिक संध्या में जय प्रकाश बंसल द्वारा स्वलिखित रचनाएं प्रस्तुत की "बातों बातों में", प्रेम की सौगात माँ के सच्चे दरबार में" सुनकर कर भक्तगण मंत्र मुग्ध हो गए इसके बाद गयात्री परिवार से विनोद कुमार मिश्रा, विनता मिश्रा, पूनम श्रीवास्तव एवं चिंतामणि श्रीवास्तव ने गयात्री भजन की पस्तुत दी। संध्या के अंत में पर्वतीय परिषद की ओर से व संयोजक गणेश जोशी के नेतृव में छोलिया नृत्य प्रस्तुत किया गया जिसका संचालन पूरन राम ने किया साथ ही साथ जोशी ने घाट पर उपस्थित समस्त भक्तगणों को उत्तरायणी मेला कर लिए आमंत्रित किया।


रेखा मिश्रा एवं विवेकानन्द पाण्डेय भजनों से मंत्र मुग्द हुए श्रद्धालु।


आकाशवाणी लखनऊ की बी ग्रेड कलाकार श्रीमती रेखा मिश्रा के भजन "चलो शिव के द्वारे", "धुनि रामाय" से भजन संध्या का शुभारंभ हुआ इसके बाद विवेकानंद पांडेय व उनके साथियों ने इस संध्या को अपने भजनों से समापन की ओर प्रेषित किया, इनकी गायन मंडली द्वारा गया गए भजन गुरु मेरी पूजा, नमोस्तुते माँ गोमती,जय गणपति गण नायक... शंकर स्तुति सुनकर दर्शक भाव विभोर हो गए।


Popular posts
पैसों के नशे में चूर हुए भूमि विकास बैंक के कथित अधिकारी। गूंगे व्यक्ति की कर दी पिटाई। 
सहायक अध्यापक भर्ती से 69000 नवजवानों को मिलेगा रोजगार
Image
गोरखपुर व वाराणसी में मण्डल स्तर पर एकीकृत मण्डलीय कार्यालय परिसर बनेगा
Image
इण्डो-नेपाल बार्डर मार्ग निर्माण परियोजना के अंतर्गत भूमि अध्याप्ती को 15 करोड़ रू. आवंटित
राष्ट्रीय स्वाभिमान, शक्ति, स्वाधीनता और संपन्नता के प्रतीक थे महाराणा प्रताप और राजा छत्रसाल : स्वामी मुरारीदास
Image