डॉ. अम्वेडकर राष्ट्रीय एकता मंच ने श्रद्धांजलि सभा का आयोजन किया

लखनऊ। युग पुरुष विश्व नायक संविधान शिल्पी बोधिशत्व परम पूज्य बाबा साहब डा. अम्वेडकर के 64वें महा परिनिर्वाण दिवस पर डॉ. अम्वेडकर राष्ट्रीय एकता मंच के केन्द्रीय कार्यालय चंचल कामप्लेक्स मेडवेल हास्पिटल के सामने वर्लिंग्टन चौराहा लखनऊ में प्रातः 11 बजे से श्रद्धांजलि सभा का आयोजन किया गया। इस सभा मुख्य रूप से संगठन के राष्ट्रीय संरक्षक पूर्व आई ए एस अधिकारी राम बहादुर, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राधेश्याम राम, प्रदेश अध्यक्ष आशा राम सरोज, प्रदेश सह संयोजक राम बिरज रावत, प्रदेश सचिव शैलेष कुमार धानुक, जिलाध्यक्ष लखनऊ बालक राम अध्यक्ष विधान सभा मोहनलाल गंज पीताम्बर प्रसाद रावत, बूथ अध्यक्ष छितवापुर राम भारत, सोहनलाल रावत लखनऊ, पूर्व डी जी एम ज्ञानेन्द्र कुमार लखनऊ, वीरेन्द्र कुमार हाण्डा जनपद कानपुर नगर तथा संगठन के अन्य पदाधिकारी, सदस्य  व जनमानस सम्मिलित हुए। सभा में सम्मिलित समस्त पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं द्वारा बाबा साहब डा. अम्वेडकर को भाव भीनी श्रद्धांजलि अर्पित की गई । सभा को सम्बोधित करते हुए राम बहादुर पूर्व आई ए  एस द्वारा बाबा साहब अम्वेडकर के बचपन से अंत तक किये संघर्षों व शोषितों, महिलाओं तथा देश की उन्नति के लिए किये गये महत्वपूर्ण कार्यों का वर्णन किया गया । वहीं संगठन के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राधेश्याम राम ने बाबा साहब द्वारा तैयार भारतीय संविधान पर प्रकाश डालते हुए इसकी रक्षा के लिए संघर्ष करने  की बात कही। सभा में उपस्थित अन्य पदाधिकारियों द्वारा भी इस अवसर पर अपने अपने विचार प्रकट किये गये । संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष भवन नाथ पासवान जी के एक कार्यक्रम में दिल्ली में होने के कारण  सभा की अध्यक्षता प्रदेश अध्यक्ष आशा राम सरोज द्वारा की गई। इनके द्वारा बाबा साहब डा. अम्वेडकर के जीवन तथा उनके संघर्ष को रेखांकित करते हुये  समाज को बाबा साहब डा. अम्वेडकर के सिद्धांतों व उनके बताए रास्ते पर चलने के लिए प्रेरित करते हुए, सभा में  उपस्थित अतिथियों का स्वागत व अभिवादन किया गया।


Popular posts
कोरोना : "विनय न मानत जलधि जड़ गए तीनि दिन बीति। बोले राम सकोप तब भय बिनु होइ न प्रीति॥"
Image
डाबर का शुद्ध गाय घी के साथ घी श्रेणी में प्रवेश
इण्डो-नेपाल बार्डर मार्ग निर्माण परियोजना के अंतर्गत भूमि अध्याप्ती को 15 करोड़ रू. आवंटित
राष्ट्रीय स्वाभिमान, शक्ति, स्वाधीनता और संपन्नता के प्रतीक थे महाराणा प्रताप और राजा छत्रसाल : स्वामी मुरारीदास
Image
उप्र सरकार भर्तियों के नाम पर नौजवानों से कर रही है लूट : वंशराज दुबे
Image