आईआईटी कानपुर से मोतीझील तक 9 किमी में जुलाई 2021 में मेट्रो का ट्रायल
लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव राजेन्द्र कुमार तिवारी ने निर्देश दिये हैं कि कानपुर शहरवासियों को यातायात हेतु मेट्रो की सुविधा उपलब्ध कराने हेतु मेट्रो के निर्माण कार्यों में गुणवत्ता के साथ तेजी लायी जाये। उन्होंने निर्देश दिये कि प्रथम काॅरीडोर के आईआईटी कानपुर से मोतीझील तक लगभग 09 किमी में आगामी जुलाई, 2021 में मेट्रो का ट्रायल तथा नवम्बर, 2021 में रेवेन्यु आपरेशन कराने हेतु कार्यों में तेजी लायी जाये। उन्होंने यह भी निर्देश दिये कि आगरा शहरवासियों को मेट्रो के माध्यम से यातायात की सुविधा उपलब्ध कराने हेतु मेट्रो निर्माण कार्य यथाशीघ्र प्रारम्भ कराने हेतु आवश्यक कार्यवाहियां प्राथमिकता से सुनिश्चित करायी जायें।
मुख्य सचिव आज लोक भवन स्थित अपने कार्यालय कक्ष के सभागार में प्रोजेक्ट माॅनीटरिंग ग्रुप की बैठक कर महत्वपूर्ण परियोजनाओं की समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने निर्देश दिये कि गंगा समिति की बैठकें नियमित रूप से करायी जायें। उन्होंने कहा कि गंगा नदी के किनारे आर्गेनिक फार्मिंग, नर्सरी एवं पर्यटन स्थलों को विकसित किये जाने हेतु कार्य योजना बनाकर सक्षम स्तर से अनुमोदन प्राप्त करने के उपरान्त आवश्यक कार्य प्राथमिकता से कराया जाये।
 राजेन्द्र कुमार तिवारी ने स्मार्ट सिटी योजना, अमृत योजना एवं नमामि गंगे योजना सहित वाराणसी, मथुरा एवं अयोध्या में सांस्कृतिक पर्यटन सुविधाओं को विकसित किये जाने तथा श्री काशी विश्वनाथ मंदिर कारिडोर का विकास किये जाने हेतु योजनाओं की समीक्षा करते हुये निर्देश दिये योजनाओं को गुणवत्ता के साथ यथाशीघ्र पूर्ण कराने हेतु माहवार लक्ष्य निर्धारित कर कार्यों की प्रगति की जानकारी उपलब्ध करायी जाये। उन्होंने कहा कि परियोजनाओं को गुणवत्ता के साथ यथाशीघ्र पूर्ण कराने हेतु वित्तीय एवं भौतिक लक्षित आंकड़ों को हासिल करने हेतु निर्धारित माइल स्टोन के अनुसार कार्यों में प्रगति लानी होगी।
बैठक में अपर मुख्य सचिव धर्मार्थ अवनीश कुमार अवस्थी, प्रमुख सचिव आवास दीपक कुमार, सचिव मुख्यमंत्री आलोक कुमार, सचिव नगर विकास अनुराग यादव सहित सम्बन्धित विभागों के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

Popular posts
कोरोना : "विनय न मानत जलधि जड़ गए तीनि दिन बीति। बोले राम सकोप तब भय बिनु होइ न प्रीति॥"
Image
डाबर का शुद्ध गाय घी के साथ घी श्रेणी में प्रवेश
इण्डो-नेपाल बार्डर मार्ग निर्माण परियोजना के अंतर्गत भूमि अध्याप्ती को 15 करोड़ रू. आवंटित
राष्ट्रीय स्वाभिमान, शक्ति, स्वाधीनता और संपन्नता के प्रतीक थे महाराणा प्रताप और राजा छत्रसाल : स्वामी मुरारीदास
Image
उप्र सरकार भर्तियों के नाम पर नौजवानों से कर रही है लूट : वंशराज दुबे
Image