उत्तर प्रदेश में शिक्षा व्यवस्था को और बेहतर बनाने के लिए  किया जा रहा है हर सम्भव प्रयास 
लखनऊ। उत्तर प्रदेश के बेसिक शिक्षा राज्यमंत्री (स्वतन्त्र प्रभार) डा. सतीश चन्द्र द्विवेदी ने कहा कि शिक्षा व्यवस्था एवं संगठनात्मक शिक्षा व्यवस्था का इतिहास उठाकर देखेगे तो जैसा प्राचीन भारत में देखने को मिलता है नालन्दा और तक्षशिला जैसे उदाहरण दुनिया में उस समय और कहीं देखने को नही मिलते है। ये बात मै इस लिये कह रहा हॅू क्योकि कई बार लोग हीन भावना से ग्रसित हो जाते है। उत्तर प्रदेश में शिक्षा व्यवस्था को और बेहतर बनाने के लिए हर सम्भव प्रयास किये जा रहे है। देश में उत्तर प्रदेश राज्य का सबसे बडा प्रदेश है।

     यह विचार डा. द्विवेदी आज मुम्बई मे इलेक्टस् टेक्नोमेडिया लि. द्वारा आयोजित 15वें वल्र्ड एजुकेशन समिट 2019 समारोह का शुभारम्भ दीप प्रज्ज्वलित करने के उपरान्त मुख्य अतिथि रूप में व्यक्त किये। उन्होने उदाहरण के रूप में कहा कि भारतीय पंचाग में सूर्य ग्रहण एवं चन्द्र ग्रहण की तिथि समय जो लिखा हो और वैज्ञानिक संस्थान जो भविष्यवाणी करते है वो मिसमैच कर जाये ऐसा कभी हुआ नही, आप कल्पना करिये कि हजारो वर्ष पहले का ज्योतिष के आधार पर हमारा कलेक्शन और आज जब उपग्रह हमारे बनाये हुए सेटेलाइट जो हमे डेटा दे रहे है उस आधार पर दोनेा में कभी मिसमैच नही होता हैै।

डा. द्विवेदी ने उप्र के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की सरकार द्वारा प्रदेश की शिक्षा व्यवस्था में किये जा रहे क्रांतिकारी सुधारों की चर्चा करते हुए बेसिक शिक्षा की कायाकल्प योजना, प्रेरणा एप, मानव संपदा पोर्टल, योग और खेलकूद की अनिवार्यता, पी.टी.एम., वार्षिक उत्सव, माॅडल इंग्लिश माध्यम स्कूलों, स्मार्ट क्लासेज, नगल विहीन माध्यमिक शिक्षा, नये विश्वविद्यालयों और शोध संस्थानों की स्थापना आदि की जानकारी दी।

डा. द्विवेदी ने कहा कि उत्तर प्रदेश में जब से मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में सरकार बनी है तब से शिक्षा में काफी सुधार आया है। आपरेशन कायाकल्प योजना के अन्तर्गत स्कूलों की व्यवस्था को सुदृढ़ कराते हुए ठीक कराया गया। सभी स्कूलो में विद्युत, पेयजल, मिड-डे-मील हेतु किचेन की व्यवस्था करायी गयी है। उन्होने कहा कि आने वाले समय में सभी स्कूलो में स्मार्ट क्लासेस चलाने की व्यवस्था की जायेगी। उत्तर प्रदेश में आगामी दिसम्बर या जनवरी माह में एक नेशनल सेमीनार के आयोजन की तैयारी की जा रही है, जिसमे देश भर के शिक्षक, विभागीय अधिकारी और विभिन्न शिक्षण संस्थानों को आमंत्रित किये जाने की तैयारी की जा रही है।

इस अवसर पर फ्रांस दूतावास के फिलिप गलियन, राजस्थान की उच्च शिक्षा सचिव सुश्री सुचि शर्मा, मणिपुर की शिक्षा सचिव, तेलंगाना के एजुकेशन कमिश्नर उमर जलील, उप्र उद्योग बन्धु के सचिव राकेश शर्मा, एलेक्टस टेक्नोमेडिया के संस्थापक और सीईओ डा. रवि गुप्ता, नेशन हेड चन्दन और अर्पित गुप्ता सहित देश के प्रतिष्ठित स्कूलों के प्रबन्धक, प्रधानाचार्य तथा शिक्षा के क्षेत्र मं काम करने वाली संस्थाएं, एनजीओ और शिक्षा अपना सीएसआर फण्ड खर्च करने वाली कम्पनियों के प्रतिनिधि शामिल थे।

Popular posts
कोरोना : "विनय न मानत जलधि जड़ गए तीनि दिन बीति। बोले राम सकोप तब भय बिनु होइ न प्रीति॥"
Image
डाबर का शुद्ध गाय घी के साथ घी श्रेणी में प्रवेश
इण्डो-नेपाल बार्डर मार्ग निर्माण परियोजना के अंतर्गत भूमि अध्याप्ती को 15 करोड़ रू. आवंटित
राष्ट्रीय स्वाभिमान, शक्ति, स्वाधीनता और संपन्नता के प्रतीक थे महाराणा प्रताप और राजा छत्रसाल : स्वामी मुरारीदास
Image
उप्र सरकार भर्तियों के नाम पर नौजवानों से कर रही है लूट : वंशराज दुबे
Image