उन्नाव के उद्वेलित किसानों से वार्ता करे सरकार : भाकपा

- अपने ही लोगों से लाठी- गोली से निपटना अनुचित और निंदनीय


लखनऊ, 18 नवंबर। भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के राज्य सचिव मण्डल ने उन्नाव में दो दिन से किसानों पर होरहे लाठीचार्ज और बल प्रयोग पर हैरानी जताई है और सरकार से किसानों के मुद्दों का हल निकालने की मांग की है।


भाकपा राज्य सचिव डा. गिरीश ने कहा कि सरकार की भूमि अधिग्रहण नीति में अब भी खामियाँ हैं और किसानों को हमेशा ऐसा लगा रहता है कि सरकार उनकी ज़मीनों को कम कीमत पर लेकर अधिक कीमत पर बेच कर लाभ कमाती है। यदि उन्हें यह विश्वास हो कि उनकी दीगई भूमि से होने वाले लाभ में उनका भी हिस्सा होगा तो किसानों को सड़क पर उतरने को बाध्य न होना पड़ता।


डा. गिरीश ने कहाकि उन्नाव के किसानों को क्या पता था कि जिस सरकार को वे अपनी सरकार समझते हैं वह उनके साथ कश्मीरियों जैसा वर्ताव करेगी। पुलिसजनों को भी शायद ही आभास रहा हो कि अपने हुक्मरानों के आदेश पर वे अपने जिन किसान भाइयों से दरपेश हैं वे आक्रोश में उनके लिये पत्थर उठा लेंगे। भाकपा राज्य सचिव ने सरकार से मांग की किसानों को वार्ता कर संतुष्ट करे और वेवजह बल प्रयोग से बाज आये।


Popular posts
कोरोना : "विनय न मानत जलधि जड़ गए तीनि दिन बीति। बोले राम सकोप तब भय बिनु होइ न प्रीति॥"
Image
डाबर का शुद्ध गाय घी के साथ घी श्रेणी में प्रवेश
इण्डो-नेपाल बार्डर मार्ग निर्माण परियोजना के अंतर्गत भूमि अध्याप्ती को 15 करोड़ रू. आवंटित
राष्ट्रीय स्वाभिमान, शक्ति, स्वाधीनता और संपन्नता के प्रतीक थे महाराणा प्रताप और राजा छत्रसाल : स्वामी मुरारीदास
Image
उप्र सरकार भर्तियों के नाम पर नौजवानों से कर रही है लूट : वंशराज दुबे
Image