नमामि गंगे परियोजना में जमीन के मामलों तत्काल दूर कराएं अधिकारी
- वाराणसी, प्रयागराज, मथुरा, कानपुर,आगरा आदि जनपदों की 

नमामि गंगे कार्यक्रम की योजनाओं को शीघ्र पूरा करें : जलशक्ति मंत्री

 

लखनऊ, 4 नवम्बर। उत्तर प्रदेश के जल शक्ति मंत्री डा. महेन्द्र सिंह ने नमामि गंगे कार्यक्रम से जुड़े अधिकारियों को निर्देश दिये हैं कि कानपुर मुरादाबाद, वाराणसी, प्रयागराज, मथुरा, आगरा, आदि जनपदों में संचालित एवं निर्माणाधीन योजनाओं को शीघ्रातिशीघ्र पूरा करें। उन्होंने कहा कि जिन जनपदों में भूमि आदि से सम्बन्धित मामलों को लेकर बाधा आ रही हैं उसको शीघ्र दूर कराकर अधिक से अधिक मानव संसाधन का उपयोग कर योजनाओं को तय समय से पहले पूर्ण करायें।

जल शक्ति मंत्री आज गोमतीनगर स्थित स्थानीय निकाय, निदेशालय के सभागार में नमामि गंगे कार्यक्रम की समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने कहा कि वाराणसी स्थित रामनगर से जुड़े सीवर, एसटीपी तथा नालों के कार्यों को अगस्त के बजाय अगले वर्ष मई-जून तक पूरा करा लिया जाये। आवश्यकता के मुताबिक लेबर आदि बढ़ाकर इस कार्य को प्राथमिकता के आधार पर समाप्त किया जाये। इसके साथ ही प्रयागराज के बंद पड़े एसटीपी को शीघ्र चालू कराया जाये तथा अयोध्या में नालों के पम्पिंग के अवशेष कार्यों को प्राथमिकता के आधार पर पूरा कराया जाये।

डा. महेन्द्र सिंह ने कहा कि निर्माणाधीन योजनाओं की लगातार निगरानी रखी जाये। इसके लिए कैमरे आदि स्थापित करके नई तकनीक के माध्यम से लखनऊ से सतत् अनुश्रवण करते हुए कार्यों को गति दी जाये। उन्होंने कहा कि जो कार्य पूरे हो गये हैं तथा निर्माणाधीन है, उनकी फोटोग्राफी भी करायी जाये। उन्होंने कहा कि घरों में सीवर के कनेक्शन दिये जाने के कार्य को प्राथमिकता के आधार पर पूरा कराया जाये।

जल शक्ति मंत्री ने कहा कि शीघ्र ही वाराणसी तथा प्रयागराज की निर्माणाधीन योजनाओं का केन्द्रीय मंत्री मौके पर अवलोकन कर सकते हैं। इसको दृष्टिगत रखते हुए अवशेष कार्यों तथा निर्माणाधीन योजनाओं को तेजी से पूरा किया जाना चाहिए। उन्होंने ये भी कहा कि जो मामलेभारत सरकार स्तर पर सुलझाए जा सकते हैं, उसके बारे में बिन्दुवार रिपोर्ट उपलब्ध करायी जाये ताकि भारत सरकार से वार्ता करके इन मामलों का निस्तारण सुनिश्चित कराया जा सके।

बैठक में प्रमुख सचिव नगर विकास मनोज कुमार सिंह ने बताया कि विगत 28 अगस्त से योजनाओं के सम्बन्ध मंे वित्तीय प्रगति 71.44 करोड़ ₹ रही है। चार परियोजनाओं की बीडिंग प्रक्रिया पूरी कर ली गयी है। अन्य निर्माणाधीन योजनाओं को शीघ्र पूरा कर लिया जायेगा। बैठक में आरके गर्ग, एसके गुप्ता, एके सिंह, पीके अग्रवाल, आरबी राजपूत तथा नीरज पाण्डेय समेत जलनिगम तथा नमामि गंगे कार्यक्रम से सम्बन्धित अधिकारी मौजूद थे।

Popular posts
कोरोना : "विनय न मानत जलधि जड़ गए तीनि दिन बीति। बोले राम सकोप तब भय बिनु होइ न प्रीति॥"
Image
डाबर का शुद्ध गाय घी के साथ घी श्रेणी में प्रवेश
इण्डो-नेपाल बार्डर मार्ग निर्माण परियोजना के अंतर्गत भूमि अध्याप्ती को 15 करोड़ रू. आवंटित
राष्ट्रीय स्वाभिमान, शक्ति, स्वाधीनता और संपन्नता के प्रतीक थे महाराणा प्रताप और राजा छत्रसाल : स्वामी मुरारीदास
Image
उप्र सरकार भर्तियों के नाम पर नौजवानों से कर रही है लूट : वंशराज दुबे
Image