मिशन इन्द्रधनुष- 2 में छोटे बच्चों का होगा पूर्ण टीकाकरण : जय प्रताप सिंह
- 2 दिसम्बर से 20 मार्च तक चलेगा अभियान 

लखनऊ। सघन मिशन इन्द्रधनुष - 2, अभियान का अगला चरण आगामी 2 दिसम्बर से शुरू किया जा रहा है। इस अभियान का मुख्य उद्देश्य प्रदेश में 2 वर्ष से कम उम्र के बच्चों में पूर्ण टीकाकरण कवरेज को 9 प्रतिशत तक बढ़ाना और उसे बनाये रखना है। यह बात शुक्रवार को प्रदेश के चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री जय प्रताप सिह ने सघन मिशन इंद्रधनुष 2. लांचिग व मीडिया कार्यशाला में बतौर मुख्य अतिथि कही।

स्वास्थ्य मंत्री श्री सिह ने 2 वर्ष से कम उम्र के उपस्थित बच्चों को टीके की खुराक पिलाकर सघन मिशन इन्द्रधनुष- 2, अभियान का शुभारम्भ करते हुयेे कहा कि मिशन इन्द्रधनुष भारत सरकार का फ्लैगशिप कार्यक्रम है, जिसका उद्देश्य देशभर में बच्चों के पूर्ण प्रतिरक्षण कवरेज को बढ़ाना है। यह अभियान 4 चरणों (2 दिसम्बर, 6 जनवरी 22, 3 फरवरी 22 एवं 2 मार्च 22) में प्रदेश के 73 जनपदों के 425 ब्लाक में चलाया जा रहा है। प्रत्येक चरण माह के प्रथम सोमवार से 7 दिवसों हेतु (बुधवार, शनिवार एवं अवकाशों को छोड़कर) चलाया जायेगा। अभियान अन्तर्गत 66283 प्रशिक्षण सत्रों का आयोजन कर 55835 बच्चों एवं 13757 गर्भवती महिलाओं को प्रतिरक्षित करने हेतु लक्ष्य निर्धारित है।

 

उन्होंने मीडियाकर्मियों से पल्स पोलियो की तरह ही सघन मिशन इन्द्रधनुष- 2, अभियान को सफल बनाने एवं आमजनमानस को बच्चों के टीकाकरण के प्रति जागरूक करने में अपना महत्वपूर्ण योगदान दें। 

उन्होंने कहा कि भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का संदेश है कि स्वस्थ्य भारत-सशक्त भारत और यह तभी संभव है जब देश का बच्चा-बच्चा स्वस्थ्य हो। प्रमुख सचिव, परिवार कल्याण देवेश चतुर्वेदी ने कहा कि सघन मिशन इन्द्रधनुष - 2, अभियान की शुरूआत करने से पूर्व नवम्बर माह में आशा कार्यकत्रियों के माध्यम से घर-घर जाकर टीकाकरण से छूटे हुये बच्चों का विवरण तैयार कराया गया है। उन्होंने कहा कि शहरी क्षेत्रों में तो अभिभावक अस्पताल जाकर बच्चों का टीकाकरण करा लेते हैं, परन्तु ग्रामीण क्षेत्रों में ऐसा नहीं है। कार्यक्रम में अपर मिशन निदेशक एनएचएम, जसमीत कौर, महानिदेशक उमाकांत, राज्य प्रतिरक्षण अधिकारी, डॉ. एपी चतुर्वेदी, महाप्रबंधक नियमित टीकाकरण, डॉ. वेद प्रकाश ने भी अपने-अपने विचार व्यक्त किये।

Popular posts
कोरोना : "विनय न मानत जलधि जड़ गए तीनि दिन बीति। बोले राम सकोप तब भय बिनु होइ न प्रीति॥"
Image
डाबर का शुद्ध गाय घी के साथ घी श्रेणी में प्रवेश
इण्डो-नेपाल बार्डर मार्ग निर्माण परियोजना के अंतर्गत भूमि अध्याप्ती को 15 करोड़ रू. आवंटित
राष्ट्रीय स्वाभिमान, शक्ति, स्वाधीनता और संपन्नता के प्रतीक थे महाराणा प्रताप और राजा छत्रसाल : स्वामी मुरारीदास
Image
उप्र सरकार भर्तियों के नाम पर नौजवानों से कर रही है लूट : वंशराज दुबे
Image