14 से 20 नवम्बर तक होगा अखिल भारतीय  सहकारी सप्ताह
- 14 नवम्बर से 20 नवम्बर, 2019 तक 66वें अखिल भारतीय 

सहकारी सप्ताह का आयोजन 

 

- 66वें अखिल भारतीय सहकारी सप्ताह के सफल आयोजन हेतु 

सभी आवश्यक तैयारियां समय से पूरी की जायें : मुकुट बिहारी वर्मा

 

लखनऊ, 7 नवम्बर। प्रदेश के सहकारिता मंत्री मुकुट बिहारी वर्मा ने बताया कि विभागीय अधिकारियों एवं सभी प्रबन्ध निदेशक, शीर्ष सहकारी संस्थायें व उप्र राज्य भण्डारण निगम को निर्देश दिये गये हैं कि 66वें अखिल भारतीय सहकारी सप्ताह के सफल आयोजन हेतु सभी आवश्यक तैयारियां समय से पूरी की जायें। जिन अधिकारियों एवं संस्थाओं को जो भी जिम्मेदारी दी गयी है उसको गम्भीरता से लेते हुए मेहनत एवं ईमानदारी से करना सुनिश्चित किया जाये। इसमें किसी भी प्रकार की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जायेगी। उन्होंने बताया कि 14 नवम्बर से 20 नवम्बर तक 66वें अखिल भारतीय सहकारी सप्ताह का आयोजन किया जायेगा। इस वर्ष सहकारी सप्ताह का मुख्य विषय रखा गया है। इस सम्बन्ध में भारतीय राष्ट्रीय सहकारी संघ, नई दिल्ली से प्राप्त मार्गदर्शन के अनुसार सप्ताह के सातों दिवसों को उद्देश्यवार मनाये जाने के कार्यक्रम के अन्तर्गत प्रदेश की संस्थाओं को दिवस निर्धारित किये गये हैं।

श्री बिहारी वर्मा ने बताया कि 14 नवम्बर को उप्र राज्य निर्माण सहकारी संघ लि. (यूपीआरएन एसएस), द्वारा सहकारिता भवन पीसीयू सभागार (निकट बापू भवन के सामने), 15 नवम्बर को म्दंइसपदह समहपेसंजपवद थ्वत ब्ववचमतंजपअमेए दिवस के रूप में उ0प्र0 राज्य भण्डारण निगम एवं उ0प्र0 राज्य उपभोक्ता सहकारी संघ लि0 द्वारा उ0प्र0 राज्य भण्डारण निगम सभागार न्यू हैदराबाद, निशातगंज, 16 नवम्बर, 2019 को, उप्र राज्य निर्माण एवं श्रम विकास सहकारी संघ लि., उप्र कोआपरेटिव यूनियन लि. एवं आईसीसीएमआरटी द्वारा पीसीयू सभागार, 17 नवम्बर को, इण्डियन फारमर्स फर्टिलाइजर कोआपरेटिव लि., (इफको) द्वारा पीसीयू सभागार, 18 नवम्बर को, उप्र कोआपरेटिव फेडरेशन लि. (पीसीएफ), द्वारा पीसीएफ सभागार, 19 नवम्बर को, उप्र सहकारी ग्राम विकास बैंक लि. द्वारा पीसीयू सभागार, 20 नवम्बर को, उप्र कोआपरेटिव बैंक लि., द्वारा इन्दिरा गांधी प्रतिष्ठान सभागार गोमती नगर लखनऊ में आयोजित किया जायेगा। समस्त कार्यक्रम प्रातः 10ः30 बजे से 02ः00 बजे के मध्य आयोजित किये जायेंगे।

Popular posts
कोरोना : "विनय न मानत जलधि जड़ गए तीनि दिन बीति। बोले राम सकोप तब भय बिनु होइ न प्रीति॥"
Image
डाबर का शुद्ध गाय घी के साथ घी श्रेणी में प्रवेश
इण्डो-नेपाल बार्डर मार्ग निर्माण परियोजना के अंतर्गत भूमि अध्याप्ती को 15 करोड़ रू. आवंटित
राष्ट्रीय स्वाभिमान, शक्ति, स्वाधीनता और संपन्नता के प्रतीक थे महाराणा प्रताप और राजा छत्रसाल : स्वामी मुरारीदास
Image
उप्र सरकार भर्तियों के नाम पर नौजवानों से कर रही है लूट : वंशराज दुबे
Image