किसी से डरें नहीं जेल अधिकारी : डीजी आनंद कुमार

- सभी अधिकारियों निडर होकर कार्य करें

- बेहतर कार्य करने वाले अधिकारियों को प्रसंशा पत्र देकर सम्मानित किया : आनन्द कुमार

 लखनऊ, 3 जुलाई। पुलिस महानिदेशक/महानिरीक्षक कारागार आनन्द कुमार ने कर्तव्य पालन में उदासीन अधिकारियों एवं निषिद्ध वस्तुओं की प्राप्ति वाली जेलों के जेल अधिकारियों को कठोर चेतावनी दी। सभी अधिकारियों को निर्देश दिया कि वे निडर होकर कार्य करें, किसी के दबाव में न आयें एवं कारागारों में कठोरता से सुरक्षा एवं अनुशासन व्यवस्था स्थापित करें। 
यह निर्देश आनन्द कुमार ने कारागार मुख्यालय में विभागीय समीक्षा बैठक की अध्यक्षता करते हुए दिये। उन्होंने सभी अधिकारियों का परिचय प्राप्त करते हुए विभाग की प्राथमिकताओं तथा उपस्थित चुनौतियों के बारे में संक्षिप्त जानकारी दी। जिसके बाद बैठक के एजण्डे के कारागार विभाग से सम्बन्धित 18 बिन्दुओं की समीक्षा की, जिसके अन्र्तगत प्रदेश की प्रत्येक जेल के जेल अधीक्षक से कारागारों में ओवरक्राॅडिंग, कारागारों की सुरक्षा व्यवस्था, कारागारों से वीडियोज के वायरल होने की स्थिति को रोकने के उपाय, निर्माणाधीन कारागारों की प्रगति की समीक्षा, नवीन कारागारों के निर्माण हेतु भूमि अर्जन की स्थिति की समीक्षा, कारागारों में स्थापित पी0सी0ओ0 की क्रियाशीलता एवं उनका बंदियों द्वारा उपयोग किये जाने की स्थिति, वीडियों काॅन्फ्रेन्सिंग सिस्टम का अधिकतम उपयोग किये जाने, सी0सी0टी0वी0 कैमरों की क्रियाशीलता, कारागारों में निषिद्ध वस्तुओं की पहुँच रोकने हेतु अचूक व्यवस्था किये जाने, कारागारों में तलाशी व्यवस्था को सुदृढ करने जैसे बिन्दुओं की गहन समीक्षा की गयी। इसके साथ ही पुलिस महानिदेशक/महानिरीक्षक कारागार आनन्द कुमार ने परिश्रमी, ईमानदार अधिकारियों तथा प्रशंसनीय सेवाओं तथा शासन की नीतियों के अनुरूप बेहतर कार्य करने वाले अधिकारियों/जेलों को प्रसंशा पत्र देकर सम्मानित किया।
बैठक में आशीष तिवारी अधीक्षक जिला कारागार कानपुर नगर द्वारा ''दिन एवं रात्रि कालीन सुरक्षा व्यवस्था, बंदी पलायन एवं अधीनस्थ कार्मिकों पर नियंत्रण'' विषय पर एक आडियो विजुअल प्रस्तुत किया गया। पी0एन0 पाण्डे वरिष्ठ अधीक्षक जिला कारागार लखनऊ द्वारा ''कुख्यात बंदियों पर नियंत्रण, तलाशी, मुलाकात में सावधानियां तथा कारागार को मोबाइल विहीन किया जाना'' विषय पर एक आडियो विजुअल प्रस्तुत किया गया।
जिला कारागार आगरा के अधीक्षक शशिकान्त मिश्रा द्वारा जिला कारागार आगरा में लोक कल्याण के क्षेत्र में काम करने वाली संस्थाओं, जनप्रतिनिधियों तथा एन0जी0ओ0 के सहयोग से कारागार में बंदियों के शिक्षण, प्रशिक्षण, सहायता, मनोरंजन, उपचार, रोजगार परक कार्यों का प्रशिक्षण आदि के क्षेत्र में किये गये अभिनव प्रयोगों से सम्बन्धित लगभग आधा घण्टे की डाक्यूमेंट्री का प्रदर्शन भी सभागार में किया गया। पुलिस महानिदेशक/महानिरीक्षक महोदय कारागार द्वारा अन्य कारागार अधिकारियों को भी इस प्रकार के सृजनात्मक कार्य करने के लिए प्रोत्साहित करते हुए यह कहा गया कि बंदियों का मन अपराध से हटाने हेतु उन्हें जनोपयोगी रोजगार परक कार्यों का प्रशिक्षण दिया जाना हर जेल अधिकारी का लक्ष्य होना चाहिए।
     जुलाई 2017 से जून, 2019 की अवधि में प्रशंसनीय कार्य करने वाली  केन्द्रीय कारागार वाराणसी, जिला कारागार गाजियाबाद, जिला कारागार आगरा, जिला कारागार कानपुर नगर, जिला कारागार बांदा को सर्वोत्तम कारागार प्रशंसा पत्र प्रदान किया गया।
कारागारों में विशिष्ट कार्य हेतु तीन अधिकारियों को प्रशंसा पत्र दिये गये। जिसमें विपिन कुमार मिश्र, अधीक्षक, जिला कारागार गौतमबुद्ध नगर, को उ0प्र0 बीज विकास निगम, कृषि विभाग एवं कारागार विभाग के संयुक्त संयोजन से बंदियों के कौशल विकास हेतु हुए अनुबन्ध के अनुसार कारागार में गेहूं के बीज का उत्पादन किया गया है। श्री मिश्र द्वारा 98 कुन्टल गेहूं का रिकार्ड उत्पादन किया गया है। बी0डी0 पाण्डे, अधीक्षक, जिला कारागार मेरठ को उ0प्र0 बीज विकास निगम, कृषि विभाग एवं कारागार विभाग के संयुक्त संयोजन से बंदियों के कौशल विकास हेतु जिला कारागार मेरठ में गेहूं के बीज का उत्पादन किया गया है। श्री पाण्डे द्वारा 225.50 कुन्टल गेहूं का रिकार्ड उत्पादन किया गया है। मिजाजी लाल अधीक्षक, जिला कारागार सोनभद्र द्वारा सोनभद्र जेल में पेयजल की गम्भीर समस्या के निराकरण हेतु कार्यदायी संस्था द्वारा प्रदान किये गये 59.37 लाख के आगणन के सापेक्ष मात्र रू0 70000/- में यह कार्य पूर्ण कर दिया गया।  
बैठक में अपर महानिरीक्षक कारागार मुख्यालय डा0 शरद कुलश्रेष्ठ, अपर महानिरीक्षक प्रशिक्षण एवं विकास वी0के0 जैन, पुलिस उप महानिरीक्षक मुख्यालय लव कुमार, पुलिस उप महानिरीक्षक अयोध्या व गोरखपुर परिक्षेत्र श्रीपर्णा गांगुली, उप महानिरीक्षक कारागार वाराणसी परिक्षेत्र वी0एस0 यादव, उप महानिरीक्षक कारागार प्रयागराज परिक्षेत्र बी0आर0 वर्मा, उप महानिरीक्षक कारागार आगरा व मेरठ परिक्षेत्र संजीव त्रिपाठी, उप महानिरीक्षक बरेली परिक्षेत्र श्रीमती शशी श्रीवास्तव सहित प्रदेश की सभी 71 कारागारों के वरिष्ठ अधीक्षक, अधीक्षकगण उपस्थित थे।


Popular posts
कोरोना : "विनय न मानत जलधि जड़ गए तीनि दिन बीति। बोले राम सकोप तब भय बिनु होइ न प्रीति॥"
Image
डाबर का शुद्ध गाय घी के साथ घी श्रेणी में प्रवेश
इण्डो-नेपाल बार्डर मार्ग निर्माण परियोजना के अंतर्गत भूमि अध्याप्ती को 15 करोड़ रू. आवंटित
राष्ट्रीय स्वाभिमान, शक्ति, स्वाधीनता और संपन्नता के प्रतीक थे महाराणा प्रताप और राजा छत्रसाल : स्वामी मुरारीदास
Image
उप्र सरकार भर्तियों के नाम पर नौजवानों से कर रही है लूट : वंशराज दुबे
Image