गंभीर बीमारी से पीड़ित 194 लोगों को भी इलाज के लिए मिली आर्थिक मदद

लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में प्रदेश सरकार तकनीकी शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए लगातार काम कर रही है। इस दिशा में प्रदेश सरकार ने शुक्रवार को महत्वपूर्ण कदम उठाया है। योगी सरकार ने प्रदेश के 6 जनपदों को राजकीय पॉलिटेक्निक कॉलेज के निर्माण के लिए करोड़ों रुपये की सौगात दी है। वहीं प्रदेश की पांच जिला जेलों में उच्च सुरक्षा एवं निगरानी हेतु विभिन्न उपकरणों की खरीद के लिए करोड़ों रुपये की रकम भी दी है। इसके साथ ही गंभीर बीमारी से पीड़ित प्रदेश के विभिन्न जनपदों के 194 लोगों को इलाज के लिए आर्थिक सहायता भी मुहैया कराई है।
 
मुख्यमंत्री कार्यालय ने अपने ट्वीटर हैंडल से ट्वीट कर इस विषय में जानकारी दी। प्राप्त जानकारी के अनुसार राजकीय पॉलिटेक्निक के निर्माण हेतु जनपद कन्नौज के तालग्राम देहात, छिबरामऊ के लिए 18.24 करोड़ रुपये, जनपद बस्ती के हरैया के लिए 20.78 करोड़ रुपये, जनपद बहराइच के भिरवा, महसी के लिए 18.21 करोड़ रुपये दिए गए हैं।


वहीं जनपद हरदोई के गोपामऊ के लिए 20 करोड़ रुपये, जनपद मऊ के घोसी के लिए 17.55 करोड़ रुपये, जनपद आजमगढ़ के समसल्लीपुर, फूलपुर पवई में राजकीय पॉलिटेक्निक कॉलेज के निर्माण के लिए 18.59 करोड़ रुपये जीएसटी के साथ उपलब्ध कराया गया है।


गंभीर बीमारी से पीड़ित लोगों को आर्थिक सहायता


इसके अलावा मुख्यमंत्री विवेकाधीन कोष से कैंसर, हृदय, किडनी तथा लीवर जैसी बीमारी से ग्रस्त 194 व्यक्तियों को 3 करोड़ 19 लाख 50 हजार रुपये की आर्थिक सहायता प्रदान की गई है। इनमें कुशीनगर जनपद से किशोर यादव,  जनपद महराजगंज से मोती चंद्र गुप्ता पुत्र,  जनपद प्रतापगढ़ से रमेश चंद्र एवं जनपद बागपत से शादाब सम्मिलित हैं।


इन जनपदों के जेलों को मिली रकम


वहीं प्रदेश की पांच जिला जेलों में उच्च सुरक्षा एवं निगरानी हेतु विभिन्न उपकरणों की खरीद के लिए 20.43 करोड़ रुपये की धनराशि स्वीकृत की गई है। इन उपकरणों की खरीद से जनपद लखनऊ, आजमगढ़, बरेली, चित्रकूट एवं गौतमबुद्धनगर के जिला कारागारों को उच्च सुरक्षा कारागार बनाया जाएगा।


Popular posts
पैसों के नशे में चूर हुए भूमि विकास बैंक के कथित अधिकारी। गूंगे व्यक्ति की कर दी पिटाई। 
सहायक अध्यापक भर्ती से 69000 नवजवानों को मिलेगा रोजगार
Image
गोरखपुर व वाराणसी में मण्डल स्तर पर एकीकृत मण्डलीय कार्यालय परिसर बनेगा
Image
इण्डो-नेपाल बार्डर मार्ग निर्माण परियोजना के अंतर्गत भूमि अध्याप्ती को 15 करोड़ रू. आवंटित
राष्ट्रीय स्वाभिमान, शक्ति, स्वाधीनता और संपन्नता के प्रतीक थे महाराणा प्रताप और राजा छत्रसाल : स्वामी मुरारीदास
Image