मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना में नव नवविवाहित जोड़ों को चेक व गृहस्थी का सामान भेंट कियाा
लखनऊ, 14 नवम्बर। प्रदेश के उप मुख्यमंत्री डॉ दिनेश शर्मा आज यहां सीतापुर रोड स्थित सौभाग्य लान में आयोजित मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना में बतौर मुख्य अतिथि अपने उद्बोधन में कहा कि वर-वधू के माता-पिता एवं अभिभावक परिवार में अपनी बहू को बेटी की तरह सम्मान दें। कन्या के माता पिता से कहा कि आप कन्या का दान कर रहे हैं, उनके जीवन को सुखी रखना आपका कर्तव्य है, इसके लिए जरूरी है कि मायके का हस्तक्षेप ससुराल में नहीं होना चाहिए।

    प्रदेश के वित्त एवं चिकित्सा शिक्षा मंत्री सुरेश कुमार खन्ना ने मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना में परिणय सूत्र में बंधने वाले जोड़ों को सुखमय जीवन की शुभकामनाएं और आशीर्वाद दिया। मुख्यमंत्री समूहिक विवाह योजना के अवसर पर उप मुख्यमंत्री डॉ दिनेश शर्मा एवं वित्त मंत्री सुरेश कुमार खन्ना ने नव नवविवाहित जोड़े को चेक और गृहस्थी का सामान भेंट कर आशीर्वाद प्रदान किया।

   समाज में सर्वधर्म-समभाव तथा समाजिक समरसता को बढ़ावा देने हेतु राज्य सरकार द्वारा मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना संचालित है। इस योजना के अन्तर्गत विभिन्न समुदाय एवं धर्मों के रीति-रिवाजों के अनुसार वैवाहिक कार्यक्रम सम्पन्न कराया जाता है। 02 लाख ₹ वार्षिक आय सीमा के अन्तर्गत आने वाले परिवारों को इस योजना के अन्तर्गत आच्छादित किया जाता है। सभी वर्गों के जरूरतमंद निराश्रित परिवारों के कन्याओं के विवाह हेतु सामूहिक आयोजन किया जाता है। योजना के तहत विधवा, परित्यागता, तलाकशुदा महिलाओं के विवाह की भी व्यवस्था है।

  मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना के अन्तर्गत एक जोड़े के विवाह पर सरकार द्वारा कुल 51000 ₹ की धनराशि व्यय किये जाने की व्यवस्था है। योजना के तहत दाम्पत्य जीवन में खुशहाली एवं गृहस्थी की स्थापना हेतु कन्या के खाते में 35000 ₹ की धनराशि का अनुदान एवं विवाह संस्कार के लिए आवश्यक, सामग्री यथा कपड़े, बिछिया, पायल, बर्तन आदि पर 10000 ₹ की धनराशि से क्रय करते हुए प्रदान किया जाता है तथा प्रत्येक जोड़े के विवाह आयोजन पर 6000 ₹ की धनराशि व्यय किये जाने की व्यवस्था है।

    मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना में लखनऊ की महापौर श्रीमती संयुक्ता भाटिया, क्षेत्रीय विधायक डॉक्टर नीरज बोरा, जिलाधिकारी एवं सीडीओ लखनऊ तथा उपनिदेशक समाज कल्याण व अन्य लोग उपस्थित थे।

Popular posts
राष्ट्रीय स्वाभिमान, शक्ति, स्वाधीनता और संपन्नता के प्रतीक थे महाराणा प्रताप और राजा छत्रसाल : स्वामी मुरारीदास
Image
डाबर का शुद्ध गाय घी के साथ घी श्रेणी में प्रवेश
उप्र सरकार भर्तियों के नाम पर नौजवानों से कर रही है लूट : वंशराज दुबे
Image
वाराणसी परिक्षेत्र के डाकघरों में अब तक हुआ 5 लाख से ज्यादा लोगों का आधार नामांकन व संशोधन : पीएमजी केके यादव
Image
राष्ट्रीय विज्ञान दिवस की पूर्व संध्या पर साइनटेनमेन्ट शो
Image