पानी बचाने को कल सभी ग्राम सभाओं में होगी बैठक
- जल संरक्षण हेतु कल ग्राम सभाओं में जागरूकता लाने के लिए होगी बैठक

 

लखनऊ, 22 अगस्त। उत्तर प्रदेश में जल संरक्षण एवं उसके समुचित उपयोग हेतु जन समुदाय को जागरूक करने के लिए 24 अगस्त को पूरे प्रदेश की सभी ग्राम पंचायतों में विशेष ग्राम सभा की बैठक आयोजित की जायेगी। आयोजित की जाने वाली ग्राम सभा की बैठकों में ग्राम प्रधान एवं सचिव द्वारा ग्रामवासियों को जल संरक्षण, जल की उपयोगिता एवं उसके उचित प्रयोग किये जाने के बारे में जानकारी दी जायेगी। जल संरक्षण की दिशा में कार्य करते हुए जल स्तर को बढ़ाया जा सकता है।

यह जानकारी पंचायतीराज मंत्री भूपेन्द्र सिंह चौधरी ने दी है। उन्होंने कहा कि इस सम्बन्ध में सभी जनपदों के जिलाधिकारियों एवं विभागीय अधिकारियों को आवश्यक निर्देश दिये गये है। उन्होंने यह भी कहा कि विभागीय अधिकारी इन बैठकों के आयोजन को गम्भीरता से लेते हुए कराना सुनिश्चित करें, इसमें किसी प्रकार की लापरवाही नहीं की जाये। उन्होंने कहा कि ''जल शक्ति अभियान'' के अन्तर्गत जल की कमी एवं उसके बचाव के लिए जल संरक्षण एवं वर्षा जल संचयन, पारम्परिक और अन्य जल स्रोतों/टैंको का नवीनीकरण, बोरवेल संरचनाओं का पुनर्भरण एवं पुनः उपयोग, वाटर शेड का विकास तथा गहन वृक्षारोपण किये जाने की आवश्यकता है। ''जल शक्ति अभियान'' के प्रथम चरण में 01 जुलाई से प्रारम्भ करते हुए 15 सितम्बर तक संचालित किये जाने के निर्देश भारत सरकार द्वारा दिये गये है। अभियान की सफलता के लिये ग्रामीण क्षेत्रों में स्थानीय लोगों की भागीदारी महत्वपूर्ण है। सभी प्रधान एवं निर्वाचित सदस्यों द्वारा अपने संबधित निर्वाचन क्षेत्रों में बड़े पैमाने पर जनमानस को जल संरक्षण के प्रति जागरूक करने संबंधी गतिविधियों का स्वयं नेतृत्व किया जाये और जन जागरूकता लाने में अग्रणी भूमिका निभायी जाये।

श्री चैधरी ने कहा कि जन समुदाय को प्रेरित करने के लिए 24 अगस्त को पूरे प्रदेश में सभी ग्राम पंचायत स्तर पर विशेष ग्राम सभा की बैंठके आयोजित की जायेगी। जिसमें जल संस्थान एवं वर्षा जल संचयन, पारम्परिक और अन्य जल निकायों/टैंको का नवीनीकरण, बोरवेल संरचनाओं का पुनर्भरण एवं पुनः उपयोग काटर शेड का विकास तथा गहन वृक्षारोपण बिन्दुओं पर विस्तार से चर्चा की जायेगी। ग्राम सभा की बैठक में ग्राम प्रधान एवं सभी पंचायत समिति सदस्यों द्वारा भाग लिया जायेगा एवं जन-समुदाय को जल संरक्षण की उपयोगिता के विषय में जानकारी दी जायेगी।

श्री चैधरी ने बताया कि ग्राम प्रधान, निर्वाचित सदस्यों एवं ग्राम सभा सदस्यों के बैठकों में भाग लेने संबधी जानकारी प्राप्त करने तथा बैठकों की जियोटैग फोटो अपलोड करने हेतु पंचायती राज मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा एक मोबाइल ऐप बनाया गया है जो गूगल-प्ले-स्टोर पर दोनों ही भाषाओं अंग्रेजी एवं हिन्दी में उपलब्ध है। यह एप्लीकेशन डैशबोर्ड के माध्यम से राज्यों में आयोजित ग्राम सभा की बैठकों की स्थिति एवं उनका अनुश्रवण करने में सहायता करेगा।  

श्री चैधरी ने जल संचयन तथा वर्षा जल संरक्षण से सम्बन्धित सभी गतिविधियों को प्राथमिकता दिये जाने की अपील की है।

Popular posts
डाबर का शुद्ध गाय घी के साथ घी श्रेणी में प्रवेश
इण्डो-नेपाल बार्डर मार्ग निर्माण परियोजना के अंतर्गत भूमि अध्याप्ती को 15 करोड़ रू. आवंटित
राष्ट्रीय स्वाभिमान, शक्ति, स्वाधीनता और संपन्नता के प्रतीक थे महाराणा प्रताप और राजा छत्रसाल : स्वामी मुरारीदास
Image
पूर्वांचल विकास निधि से मिर्जापुर व बलिया के 4 मार्गों के निर्माण को धनराशि आवंटित
उप्र सरकार भर्तियों के नाम पर नौजवानों से कर रही है लूट : वंशराज दुबे
Image