उप्र कोआपरेटिव बैंक ने लाभांश घोषित किया
- उप्र कोआपरेटिव बैंक ने लाभांश घोषित किया

 

- तीनों वर्षों हेतु क्रमशः 4, 5, एवं 6 प्रतिशत का लाभांश घोषित करते हुए कुल 

4041.56 लाख रुपये का लाभांश वितरित किये जाने का निर्णय

 

लखनऊ, 17 फरवरी सं.। उ0प्र0 को-आपरेटिव बैंक लि0 की 58वीं वार्षिक सामान्य निकाय की आयोजित बैठक का शुभारम्भ इन्दिरा गांधी प्रतिष्ठान में सदस्य विधान परिषद व कार्यक्रम के मुख्य अतिथि श्री विद्यासागर सोनकर ने दीप प्रज्ज्वलित कर किया।

 

श्री सोनकर ने अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि प्रदेश में किसानों की खुश हाली और प्रदेश के विकास में सहकारिता का महत्वपूर्ण योगदान है। सहकारिता आन्दोलन के माध्यम से गरीबों, किसानों, जरूरतमंद नागरिकों को आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर बनाया जा सकता है।

 

श्री सोनकर ने यह भी कहा कि उ0प्र0 को-आपरेटिव बैंक लि0 निरन्तर प्रगति के पथपर अग्रसर है। उ0प्र0 को-आपरेटिव बैंक किसानों को फसली ऋण तथा गन्ना मूल्य भुगतान हेतु चीनी मिलों के वित्तपोषण से अपने सामाजिक उत्तरदायित्व को पूरी गम्भीरता के साथ निभा रहा है।

 

सामान्य निकाय की बैठक में उ0प्र0 कोआपरेटिव बैंक लि0 के सभापति श्री तेजवीर सिंह ने कहा कि उ0प्र0 कोआपरेटिव बैंक लि0 अपनी 28 शाखाओं एवं 50 जिला सहकारी बैंकों के माध्यम से प्रदेश में आधुनिक तकनीकी द्वारा ग्राहकों को बेहतर सेवायें प्रदान करने का प्रयास किया जा रहा है।

 

उन्होंने बताया कि 58वीं वार्षिक सामान्य निकाय की बैठक में विगत तीन वर्षों 2015-16, 2016-17 एवं 2017-18 में क्रमशः 2006.07 लाख, 3281.54 लाख एवं 4091.38 लाख रुपये का लाभ अर्जित किया गया है। इन तीनों वर्षों हेतु क्रमशः 4, 5, एवं 6 प्रतिशत का लाभांश घोषित करते हुए कुल 4041.56 लाख रुपये का लाभांश वितरित किये जाने का निर्णय लिया गया।

 

बैंक के प्रबन्ध निदेशक श्री भूपेन्द्र कुमार ने बताया कि शीर्ष बैंक सदैव कृषकों, अपने खाताधारकों तथा अंशधारकों के हितों के प्रति सजग रहता है। बैंक द्वारा प्रदेश सरकार की ऋण माफी योजना में सक्रिय योगदान करते हुए 484273 कृषकों को 633.50 करोड़ का ऋण माफ किया गया। प्रबन्ध निदेशक ने यह भी बताया कि भारत सरकार की खाद्यान्न क्रय योजना के अन्तर्गत भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा गठित फूड क्रेडिट कन्सोर्टियम में भी 1033 करोड़ का प्रतिभाग बैंक द्वारा किया जा रहा है जिससे किसनों को उनकी उपज का सही मूल्य प्राप्त हो सके।

 

उन्होंने यह भी बताया कि गन्ना किसानों को गन्ना मूल्य भुगतान हेतु लगभग 1700 करोड़ रुपये का वित्तपोषण भी चीनी मिलों को किया गया। उन्होंने कहा कि ग्राहकों को उत्कृष्ट सेवायें प्रदान कर सहकारिता आन्दोलन की सफलता हेतु समस्त अधिकारी/कर्मचारी अपना योगदान प्रदान करें।

 

इस अवसर पर पुलवामा में हुई घटना में शहीद हुए जवानों के प्रति दो मिनट का मौन रखकर शोक व्यक्त किया गया तथा इस घटना में घायल हुए जवानों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना की गयी।

 

वार्षिक सामान्य निकाय की बैठक के अन्त में बैंक के उप सभापति श्री जितेन्द्र बहादुर सिंह ने बैठक में उपस्थित सभी डेलीगेट्स, जिला सहकारी बैंक के अध्यक्षगणों, मुख्य कार्यकारी अधिकारियों एवं अन्य सम्मानित अतिथियों, तथा अधिकारियों/कर्मचारियों के प्रति धन्यवाद ज्ञापित करते हुए आभार व्यक्त किया। इस अवसर पर नाबार्ड के महाप्रबन्धक, विधायक श्री राजीव कुमार सिंह व श्री विकास गुप्ता सहित आदि उपस्थित थे।

Popular posts
डाबर का शुद्ध गाय घी के साथ घी श्रेणी में प्रवेश
इण्डो-नेपाल बार्डर मार्ग निर्माण परियोजना के अंतर्गत भूमि अध्याप्ती को 15 करोड़ रू. आवंटित
राष्ट्रीय स्वाभिमान, शक्ति, स्वाधीनता और संपन्नता के प्रतीक थे महाराणा प्रताप और राजा छत्रसाल : स्वामी मुरारीदास
Image
पूर्वांचल विकास निधि से मिर्जापुर व बलिया के 4 मार्गों के निर्माण को धनराशि आवंटित
उप्र सरकार भर्तियों के नाम पर नौजवानों से कर रही है लूट : वंशराज दुबे
Image