मुख्यमंत्री योगी ने पिपराइच चीनी मिल का निरीक्षण किया
- देश की सबसे आधुनिक तकनीक पर आधारित चीनी मिल पिपराइच में निर्मित हो रही है : मुख्यमंत्री योगी

 

- चीनी मिल का शुभारम्भ 24 को प्रधानमंत्री करेंगे

 

- चीनी मिल के चालू होने से 500 लोगों को प्रत्यक्ष रूप से 

तथा 5,000 लोगों को अप्रत्यक्ष रूप से रोजगार उपलब्ध हो सकेगा

 

- भविष्य में इस चीनी मिल की क्षमता को बढ़ाकर 75,000 कुन्तल प्रतिदिन करने की व्यवस्था की जाएगी

 

लखनऊ, 17 फरवरी, धनंजय सिंह। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भ्रमण के दौरान निर्माणाधीन पिपराइच चीनी मिल का निरीक्षण किया। उन्होंने कहा कि देश के देश की सबसे आधुनिक तकनीक पर आधारित चीनी मिल पिपराइच में निर्मित हो रही है और 24 को प्रधानमंत्री जी इसका औपचारिक शुभारम्भ करेंगे। इसी के साथ इसका ट्रायल शुरू हो जाएगा।

 

उन्होंने कहा कि मार्च, 2019 के मध्य से पेराई का कार्य भी प्रारम्भ हो जाएगा। इस चीनी मिल के चालू होने से 500 लोगों को प्रत्यक्ष रूप से तथा 5,000 लोगों को अप्रत्यक्ष रूप से रोजगार उपलब्ध हो सकेगा। साथ ही, इसके चालू होने से 40,000 गन्ना किसान लाभान्वित होंगे। इस चीनी मिल के चालू होने से इसके आसपास के क्षेत्रों के गन्ने की खपत इस मिल में हो सकेगी।

 

मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि इस चीनी मिल में प्रतिदिन 50,000 कुन्तल पेराई की व्यवस्था की गयी है। भविष्य में इसकी पेराई क्षमता को बढ़ाकर 75,000 कुन्तल प्रतिदिन करने की व्यवस्था की जाएगी। इस शुगर मिल में किसी प्रकार का प्रदूषण नहीं होगा, जो लोगों के स्वास्थ्य की दृष्टि से उपयोगी सिद्ध होगा। यहां के किसानों द्वारा लम्बे समय से चीनी मिल की मांग की जा रही थी, जिसे सरकार ने अब पूरा कर दिया है।

 

मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि गन्ना विभाग द्वारा किसानों में जागरूकता के दृष्टिगत गोष्ठियां आयोजित की गयीं। इनका उद्देश्य किसानों द्वारा उन्नत किस्म का गन्ना उत्पादन कर अच्छा लाभ प्राप्त कराना था। उन्होंने कहा कि वर्ष 2020 के पेराई सत्र में चीनी मिल को गन्ने की पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित हो सकेगी और मार्च, 2020 के मध्य से प्रारम्भ होने वाले पेराई सत्र में किसानों के अवशेष गन्ने की खपत चीनी मिल में होगी।

 

निरीक्षण के दौरान जनप्रतिनिधि, अपर मुख्य सचिव सूचना अवनीश कुमार अवस्थी तथा अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

Popular posts
डाबर का शुद्ध गाय घी के साथ घी श्रेणी में प्रवेश
इण्डो-नेपाल बार्डर मार्ग निर्माण परियोजना के अंतर्गत भूमि अध्याप्ती को 15 करोड़ रू. आवंटित
राष्ट्रीय स्वाभिमान, शक्ति, स्वाधीनता और संपन्नता के प्रतीक थे महाराणा प्रताप और राजा छत्रसाल : स्वामी मुरारीदास
Image
पूर्वांचल विकास निधि से मिर्जापुर व बलिया के 4 मार्गों के निर्माण को धनराशि आवंटित
उप्र सरकार भर्तियों के नाम पर नौजवानों से कर रही है लूट : वंशराज दुबे
Image